Tapsya se khush hokar

VN:F [1.9.22_1171]
Rating: 0.0/5 (0 votes cast)

Tapsya se khush hokar,
Ganesh bhagwan ne kaha ek var mango.
Aadmi- Ek Tata Safari,
Ganesh Bhagwan – Saale Tata Company mere bap ki hoti
to mai chuhe pe kyo ghumta.

कई बार हमारे आंसू और दुःख

VN:F [1.9.22_1171]
Rating: 0.0/5 (0 votes cast)

एक आदमी की 8 साल
की इकलोती और
लाडली बेटी बीमार पड़
गयी. बहुत कोशिश के बाद
भी वो नहीं बच पाई.
पिता गहरे शोक में डूब
गया और खुद
को दुनिया और दोस्तों से
दूर कर लिया. एक रात
उसे
सपना आया की वो स्वर्ग
में
था जहाँ नन्ही परियो का
जुलुस जा रहा था. वो सब
जलती मोमबत्ती को हाथ
में लिए सफ़ेद पोशाक में
थी. उनमे से एक
लड़की की मोमबत्ती बुझी
हुई थी. व्यक्ति ने पास
जाकर
देखा तो वो उसकी बेटी
थी. उसने
अपनी बेटी को दुलारा और
पूछा की ‘बेटी तुम्हारी
मोमबत्ती में
रौशनी क्यों नहीं हैं?’
लड़की बोली की ‘पापा ये
लोग कई बार
मेरी मोमबत्ती जलाते हैं
लेकिन आपके आंसुओ से हर
बार बुझ जाती हैं.” एकदम
से उस आदमी की नीदं
खुली और उसे सपने
का मतलब समझ आ गया.
तब से उसने दोस्तों से
मिलना खुश रहना शुरू कर
दिया ताकि उसके आंसुओ से
उसकी बेटी की मोमबत्ती
न बुझे.
“कई बार हमारे आंसू और
दुःख, हमारे न चाहते हुए
भी अपनों को दुःख देते हैं.
और वे भी दुखी हो जाते
हैं.”

जो मजा पाकिस्तान की हार मैं है

VN:F [1.9.22_1171]
Rating: 5.0/5 (2 votes cast)

जो मजा पाकिस्तान की हार मैं है,
ना इश्क ना , प्यार में हैं,
ना मोटर में ना कार में हैं,
ना दिल में ना दिलदार में हैं,
जो मजा पाकिस्तान की हार में हैं,
ना घर में ना बाजार में हैं,
ना सात समंदर पार में हैं,
जो मजा पाकिस्तान की हार में हैं.

ना आम हैं , ना अनार में हैं,
ना चटनी , ना अचार में हैं,
ना हिचकी ना, डकार में हैं ,
जो मजा पाकिस्तान की हार में हैं ,
ना ” टेप” ना ” वी सी आर” में हैं,
ना सुर में ना ताल में हैं,
ना पायल की झंकार में हैं ,
जो मजा पाकिस्तान की हार में हैं ,
चक दे इंडिया.

जो मजा पाकिस्तान की हार मैं हैं ,
ना इश्क ना , प्यार में हैं,
ना मोटर में ना कार में हैं ,
ना दिल में ना दिलदार में हैं,
जो मजा पाकिस्तान की हार में हैं ,
ना घर में ना बाजार में हैं ,
ना सात समंदर पार में हैं ,
जो मजा पाकिस्तान की हार में हैं,
ना आम हैं , ना अनार में हैं,
ना चटनी , ना अचार में हैं ,
ना हिचकी ना, डकार में हैं .

जो मजा पाकिस्तान की हार में हैं,
ना ” टेप” ना ” वी सी आर” में हैं,
ना सुर में ना ताल में हैं ,
ना पायल की झंकार में हैं ,
जो मजा पाकिस्तान की हार में हैं.