आँख से जब दर्द की

VN:F [1.9.22_1171]
Rating: 5.0/5 (1 vote cast)

मोतियों की मालिका मैंने कहीं ,
आँख से जब दर्द की बूदें बहीं ,
ले इन्हें घूमा बहुत संसार में ,
आँसुओं का मूल्य जग में कुछ नहीं।
~ हरिवंश राय बच्चन

 

कोशिश करने वालों की

VN:F [1.9.22_1171]
Rating: 3.0/5 (1 vote cast)

लहरों से डर कर नौका पार नहीं होती,
कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती।

नन्हीं चींटी जब दाना लेकर चलती है,
चढ़ती दीवारों पर, सौ बार फिसलती है।
मन का विश्वास रगों में साहस भरता है,
चढ़कर गिरना, गिरकर चढ़ना न अखरता है।
आख़िर उसकी मेहनत बेकार नहीं होती,
कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती।

डुबकियां सिंधु में गोताखोर लगाता है,
जा जा कर खाली हाथ लौटकर आता है।
मिलते नहीं सहज ही मोती गहरे पानी में,
बढ़ता दुगना उत्साह इसी हैरानी में।
मुट्ठी उसकी खाली हर बार नहीं होती,
कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती।

असफलता एक चुनौती है, इसे स्वीकार करो,
क्या कमी रह गई, देखो और सुधार करो।
जब तक न सफल हो, नींद चैन को त्यागो तुम,
संघर्ष का मैदान छोड़ कर मत भागो तुम।
कुछ किये बिना ही जय जय कार नहीं होती,
कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती।

by Harivansh Rai Bachchan

 

 

Kya Khoya Kya Paya Jag Mei

VN:F [1.9.22_1171]
Rating: 0.0/5 (0 votes cast)

क्या खोया, क्या पाया जग में
मिलते और बिछुड़ते मग में
मुझे किसी से नहीं शिकायत
यद्यपि छला गया पग-पग में
एक दृष्टि बीती पर डालें, यादों की पोटली टटोलें!

पृथ्वी लाखों वर्ष पुरानी
जीवन एक अनन्त कहानी
पर तन की अपनी सीमाएँ
यद्यपि सौ शरदों की वाणी
इतना काफ़ी है अंतिम दस्तक पर, खुद दरवाज़ा खोलें!

जन्म-मरण अविरत फेरा
जीवन बंजारों का डेरा
आज यहाँ, कल कहाँ कूच है
कौन जानता किधर सवेरा
अंधियारा आकाश असीमित,प्राणों के पंखों को तौलें!
अपने ही मन से कुछ बोलें!

by Atal Bihari Vajpayee

Dhoop Sa Tan Deep Si Mei

VN:F [1.9.22_1171]
Rating: 0.0/5 (0 votes cast)

उड़ रहा नित एक सौरभ-धूम-लेखा में बिखर तन,
खो रहा निज को अथक आलोक-सांसों में पिघल मन
अश्रु से गीला सृजन-पल,
औ’ विसर्जन पुलक-उज्ज्वल,
आ रही अविराम मिट मिट
स्वजन ओर समीप सी मैं!

सघन घन का चल तुरंगम चक्र झंझा के बनाये,
रश्मि विद्युत ले प्रलय-रथ पर भले तुम श्रान्त आये,
पंथ में मृदु स्वेद-कण चुन,
छांह से भर प्राण उन्मन,
तम-जलधि में नेह का मोती
रचूंगी सीप सी मैं!

Mahadevi Verma

Uth Meree Jaan Mere Saath

VN:F [1.9.22_1171]
Rating: 0.0/5 (0 votes cast)

Jindagee toh hai amal sabrr ke kabu me nahi
Nabj kaa garm lahu thande se aansu me nahi
Udane me khulane me hai khushbu,Game gessu me nahee

Jannat ek aur hai jo mard ke pehlu me nahee
Usakee aajad rabish par hee machalana hai tujhe

Jis me jalata hu, ussee aag me jalana hai tujhe
Uth meree jaan, mere saath hee chalana hai tujhe

Tere aanchal me hai kirane bhee, andhera hee nahi
Tujhase raate bhee mahekatee hai, savera hee nahi
Dil me armaan bhee hai, gham kaa basera hee nahi
Gham ke ghanghor andhere se nikalna hai tujhe

Kadr abb tak teree taarikh ne jaani hee nahi
Roshanee bhee teree aankho me hai, paani hee nahi

Haar tune kabhee takdir se maanee hee nahi
Too hakikat bhee hai, dilchasp kahaanee hee nahi

Har ada teree kayaamat hai, jawanee hee nahi
Apanee taarikh kaa unwaan badalana hai tujhe

by Kaifi Azmi

साथी, सब कुछ सहना होगा!

VN:F [1.9.22_1171]
Rating: 0.0/5 (0 votes cast)

मानव पर जगती का शासन,
जगती पर संसृति का बंधन,
संसृति को भी और किसी के प्रतिबंधों में रहना होगा!
साथी, सब कुछ सहना होगा!

हम क्या हैं जगती के सर में!
जगती क्या, संसृति सागर में!
एक प्रबल धारा में हमको लघु तिनके-सा बहना होगा!
साथी, सब कुछ सहना होगा!

आओ, अपनी लघुता जानें,
अपनी निर्बलता पहचानें,
जैसे जग रहता आया है उसी तरह से रहना होगा!
साथी, सब कुछ सहना होगा!

Harivansh Rai Bachchan

क्षण भर को क्यों प्यार किया था?

VN:F [1.9.22_1171]
Rating: 0.0/5 (0 votes cast)

अर्द्ध रात्रि में सहसा उठकर,
पलक संपुटों में मदिरा भर,
तुमने क्यों मेरे चरणों में अपना तन-मन वार दिया था?
क्षण भर को क्यों प्यार किया था?

‘यह अधिकार कहाँ से लाया!’
और न कुछ मैं कहने पाया –
मेरे अधरों पर निज अधरों का तुमने रख भार दिया था!
क्षण भर को क्यों प्यार किया था?

वह क्षण अमर हुआ जीवन में,
आज राग जो उठता मन में –
यह प्रतिध्वनि उसकी जो उर में तुमने भर उद्गार दिया था!
क्षण भर को क्यों प्यार किया था?

Harivansh Rai Bachchan